Wednesday, July 17, 2024
spot_img
spot_img
03
20x12krishanhospitalrudrapur
previous arrow
next arrow
Shadow
Homeराज्यदिल्लीनेपाल घूमने के लिए नहीं करना होगा करेंसी एक्सचेंज, UPI के जरिये...

नेपाल घूमने के लिए नहीं करना होगा करेंसी एक्सचेंज, UPI के जरिये अब कर सकेंगे ऑनलाइन पेमेंट

एफएनएन, नई दिल्ली : भारत में रोजाना लाखों लोग यूपीआई (UPI) के जरिये पेमेंट करते हैं। अब धीरे-धीरे यूपीआई अपना परचम विश्व में भी लहरा रहा है। दुनिया के कई देशों में यूपीआई के जरिये भुगतान शुरू हो चुका है। श्रीलंका, फ्रांस, मालदीव जैसे कई देशों में यूपीआई के जरिये पेमेंट किया जा सकता है।

आज एनपीसी ने यूपीआई को लेकर एक अहम घोषणा की है। एनपीसी (NPCI) ने बतया कि अब नेपाल में भी यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (UPI) के जरिये भुगतान किया जा सकता है। एनपीसी के आधिकारिक बयान के अनुसार अब यूपीआई यूजर नेपाली मर्चेंट को भुगतान करने के लिए क्यूआर कोड स्कैन कर सकते हैं।

WhatsAppImage2024-02-11at73136PM
WhatsAppImage2024-02-11at73136PM
previous arrow
next arrow
Shadow

सितंबर 2023 में नेशनल पेमेंट्स कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया इंटरनेशनल पेमेंट्स (NIPL) और नेपाल के सबसे बड़े पेमेंट नेटवर्क फोनेपे पेमेंट सर्विस (Fonepay Payment Service) के बीच एक समझौता हुआ था।

WhatsApp Image 2023-12-18 at 2.13.14 PM

एनपीसी ने अपने बयान में कहा कि पहले फेस के साझेदारी के बाद भारतीय उपभोक्ता यूपीआई बेस्ड ऐप्स जैसे-पेटीएम (Paytm), फोनपे (PhonePay), गूगल पे (Google Pay) आदि का इस्तेमाल करके नेपाल के कई बिजनेस स्टोर पर यूपीआई के जरिये ऑनलाइन पेमेंट कर सकते हैं। इसमें यूपीआई यूजर सुरक्षित और सुविधाजनक तरीके से ऑनलाइन पेमेंट कर सकते हैं।

नेपाल में यूपीआई के शुरू हो जाने के बाद से दोनों देशों के नागरिकों के बीच सीमा पार लेनदेन में “क्रांतिकारी बदलाव” आएगा।

एनआईपीएल के मुख्य कार्यकारी अधिकारी रितेश शुक्ला ने कहा कि

यह पहल न केवल डिजिटल पेमेंट सेक्टर में नवाचार करने की हमारी प्रतिबद्धता को दर्शाती है, बल्कि व्यापार के लिए नए रास्ते बनाने, दोनों देशों के बीच संबंधों को मजबूत करने के प्रति हमारे समर्पण को भी दर्शाती है।

Fonepay के मुख्य कार्यकारी दिवस कुमार ने कहा

मुझे विश्वास है कि यह यूपीआई पेमेंट दोनों देशों के बीच आर्थिक संबंधों, कमर्शियल और पर्यटन में उल्लेखनीय सुधार करेगा। अंततः आर्थिक समृद्धि और प्रगति को बढ़ावा देगा।

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments