Friday, July 19, 2024
spot_img
spot_img
03
20x12krishanhospitalrudrapur
previous arrow
next arrow
Shadow
Homeराज्यउत्तराखंडविकासनगर में कालसी सहिया मार्ग पर पहाड़ से गिरे पत्थर की चपेट...

विकासनगर में कालसी सहिया मार्ग पर पहाड़ से गिरे पत्थर की चपेट में आया स्कूटी सवार, खाई में गिरकर हुई मौत

एफएनएन, विकासनगर: कालसी सहिया मार्ग खतरनाक बना हुआ है. यहां कभी भी पहाड़ी से पत्थर गिर जा रहे हैं. मंगलवार रात भी पहाड़ी से गिरे पत्थर ने एक वाहन सवार यात्री की जान ले ली. एक व्यक्ति कालसी साहिया मार्ग पर स्कूटी से जा रहा था. अचानक पहाड़ी से लैंडस्लाइड शुरू हुआ और एक बहुत बड़ा पत्थर स्कूटी सवार इस व्यक्ति के ऊपर गिर गया.

पहाड़ी से तेज गति से गिरे बड़े पत्थर के टकराने से ये स्कूटी सवार वाहन पर से नियंत्रण खो बैठा. अनियंत्रित स्कूटी के साथ सवार करीब 800 मीटर गहरी खाई में जा गिरा. इस दौरान वहां से आते-जाते कुछ लोगों को इस हादसे का पता चला. उन लोगों ने देहरादून आपदा कंट्रोल रूम को हादसे की सूचना दी. डायल 112 सेवा देहरादून ने कालसी साहिया मार्ग पर दुर्घटना की सूचना विकासनगर में दी.

WhatsApp Image 2023-12-18 at 2.13.14 PM

सूचना मिलते ही एसडीआरएफ की रेस्क्यू टीम घटनास्थल के लिए रवाना हुई. ये सड़क हादसा कालसी से 5 किलोमीटर आगे सहिया मार्ग पर हुआ था. अपर उपनिरीक्षक सुरेश तोमर के नेतृत्व में एसडीआरएफ की टीम ने घटनास्थल पर पहुंचकर रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया. रात में अंधेरा होने के कारण खाई में उतरने में दिक्कत आ रही थी. लेकिन एसडीआरएफ के जवानों ने इसकी परवाह न करते हुए अपना अभियान अंधेरे में भी जारी रखा.

पत्थर से टकराकर स्कूटी सवार व्यक्ति 800 मीटर गहरी खाई में गिर गया था. कड़ी मशक्कत के बाद एसडीआरएफ की टीम उस स्थान पर पहुंच गई जहां स्कूटी सवार व्यक्ति पड़ा हुआ था. टीम ने देखा कि उस व्यक्ति की मौत हो चुकी थी. अब शव को सड़क तक लाने का बड़ा चैलेंज एसडीआरएफ की टीम के सामने था. टीम ने कड़ी मशक्कत करते हुए स्कूटी सवार यात्री का शव को ऊपर सड़क तक पहुंचाया. इसके बाद शव पुलिस के हवाले कर दिया गया.

सड़क हादसे में मारे गए स्कूटी सवार व्यक्ति का नाम मातेश्वर है. 45 साल के मातेश्वर के पिता का नाम कुंदन सिंह है जो सहिया के रहने वाले हैं. रेस्क्यू टीम हादसे के शिकार मातेश्वर की सफेद रंग की स्कूटी संख्या UK07AQ- 4547 को भी खाई से निकालकर सड़क पर ले आई. इसके साथ ही रेस्क्यू अभियान समाप्त हो गया.

ये भी पढ़ें:- 3 नए आपराधिक कानूनों को उत्तराखंड में लागू करने की तैयारी, 50 अधिकारियों ने किया मास्टर ट्रेनिंग कोर्स

RELATED ARTICLES

Most Popular

Recent Comments