Saturday, April 13, 2024
spot_img
spot_img
spot_img
03
20x12krishanhospitalrudrapur
previous arrow
next arrow
Shadow
spot_img
Homeराष्ट्रीयसचिन पायलट न इधर के रहे, न उधर के

सचिन पायलट न इधर के रहे, न उधर के

  • राजस्थान में पलटा पासाए सचिन पायलट समेत तीन मंत्री बर्खास्त
  • पायलट सभी पदों से बर्खास्तए प्रदेश अध्यक्ष के पद से भी छुटटी

एफएनएनए राजस्थान : राजस्थान में पिछले कई दिनों से चल रहा सियासी गतिरोध मंगलवार को कार्यवाही की ओर बढ़ चला। कांग्रेस आलाकमान ने बड़ी कार्रवाई करते हुए राजस्थान के डिप्टी सीएम सचिन पायलट को बर्खास्त कर दिया है। उनके समर्थक तीन मंत्रियों को भी तत्काल प्रभाव से हटा दिया गया है। पार्टी ने गोवंद सिंह को राजस्थान कांग्रेस का नया अध्यक्ष नियुक्त किया है।

बता दें कि अपनी ही पार्टी के मुख्यमंत्री से खफा चल रहे सचिन पायलट बगावती तेवर पर उतारू थे। मुख्यमंत्री पद की लालसा में उन्होंने अपने साथ 30 विधायकों के समर्थन का दावा करते हुए दिल्ली में डेरा डाल दिया था। प्रियंका गांधी और राहुल गांधी के अलावा पार्टी के तमाम बड़े नेताओं ने सचिन पायलट से बात की, लेकिन वे नहीं माने और आखिर कांग्रेस विधायक दल की बैठक के बाद उन पर एक्शन ले लिया गया। इधर राजस्थान में बदलती सियासी घटनाक्रम के बीच भाजपा ने अपने सभी विधायकों को जयपुर बुला लिया है। माना जा रहा है कि सचिन पायलट अब भाजपा में प्रवेश ले सकते हैं और राजस्थान में भी मध्यप्रदेश पार्ट टू का सियासी ड्रामा दोहराकर अशोक गहलोत सरकार का तख्ता पलट किया जा सकता है।

sachin_pilot_sackedsag

सुरजेवाला ने किया तख्तापलट का ऐलान

कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने पायलट को प्रदेश अध्यक्ष के साथ ही मंत्री पद से हटाए जाने का ऐलान किया। सुरजेवाल ने कहा कि पायलट के साथ ही विश्वेंद्र सिंह और रमेश मीणा को भी मंत्री पद से हटाया जा रहा है। सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस विधायक पायलट के खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे थे। सुरजेवाला ने विपक्षी भारतीय जनता पार्टी पर बहुमत की सरकार को अस्थिर करने के लिए धनबल का उपयोग कर साजिश रचने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि भाजपा के इस जाल में सचिन पायलट के साथ कुछ और कांग्रेस विधायक भी उलझ गए।

टोंक से जीते हैं सचिन

राजस्थान प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष रहते हुए भी अपनी ही सरकार के खिलाफ बगावत का झंडा बुलंद करने वाले सचिन पायलट टोंक विधानसभा क्षेत्र से विधायक हैं। वहीं, पर्यटन और देवस्थान मंत्री रहे विश्वेंद्र सिंह विधानसभा में दीघ कुम्हेर सीट का प्रतिनिधित्व करते हैं। कभी भाजपा में भी रह चुके विश्वेंद्र सिंह की गिनती अशोक गहलोत के विरोधी नेताओं में होती है। इनके अलावा गहलोत मंत्रिमंडल से हटाए गए रमेश मीणा खाद्य और नागरिक आपूर्ति विभाग के मंत्री थे। रमेश मीणा सपोटरा विधानसभा क्षेत्र से तीन बार के विधायक हैं।

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

CommentLuv badge

Most Popular

Recent Comments